ममता बनर्जी का दावा: चुनावों के बावजूद TMC बंगाल में अब भी बरकरार रहेगी

ममता बनर्जी का दावा: चुनावों के बावजूद TMC बंगाल में अब भी बरकरार रहेगी

ममता बनर्जी ने बीजेपी के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार को भी निशाना साधते हुए कहा, “चुनाव के समय दिल्ली से कुछ लोग आते हैं, लेकिन साल के बाकी दिनों में वे नजर नहीं आते. वे उन समयों भी नहीं आते, जब यहां किसी की मौत हो जाती है.”

नई दिल्ली: पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने राज्य में चल रही तृणमूल कांग्रेस की सरकार के संबंध में एक महत्वपूर्ण बयान दिया है। कई पार्टी नेताओं के पार्टी छोड़ने और टीएमसी नेताओं पर कार्रवाई के बीच, ममता ने कहा, “चुनाव आएंगे और जाएंगे, लेकिन पश्चिम बंगाल में तृणमूल कांग्रेस अपना प्रभुत्व स्थायी रखेगी.”

सोमवार को पूर्वी मेदिनीपुर में आयोजित एक कार्यक्रम में, ममता बनर्जी ने बताया कि बिना चुनावी नतीजों की परवाह किए, तृणमूल कांग्रेस राज्य में सत्ता में बनी रहेगी, बंगाल की जनता को इस पर आश्वासन दिया। ममता ने कहा कि वोटों में उतार-चढ़ाव हो सकता है, परंतु उन्होंने पश्चिम बंगाल में तृणमूल कांग्रेस की स्थिति को स्थिर रखने की प्रतिबद्धता जताई।
ममता बनर्जी ने बीजेपी की केंद्र सरकार को आलोचना करते हुए कहा, “चुनाव के समय दिल्ली से कुछ लोग आते हैं, परंतु साल के बाकी दिनों में वे दिखाई नहीं देते. वे तब भी नहीं आते, जब यहां किसी की मौत होती है.”

इस बीच, लोकसभा चुनाव से ठीक पहले, दिग्गज नेता तापस रॉय ने तृणमूल कांग्रेस को एक महत्वपूर्ण झटका देते हुए रविवार को पार्टी के सभी पदों से इस्तीफा दे दिया।
बरानगर विधायक तापस पॉल ने बताया कि उन्होंने इसलिए इस्तीफा दिया, क्योंकि उन्हें महसूस हुआ कि पार्टी ने उनका सम्मान नहीं किया। वह टीएमसी के उप सचेतक भी थे। रॉय ने कहा, “मैंने इस्तीफा दिया क्योंकि मुझे ऐसा अनुभव हुआ कि पार्टी ने मेरे सम्मान को देखा नहीं। कई बार ऐसी परिस्थितियां थीं जहां मुझे ऐसा लगा। 12 जनवरी को ईडी की टीम मेरे घर पहुंची, लेकिन उसके बावजूद टीएमसी से कोई सहानुभूति या सहयोग नहीं मिला।”

तृणमूल कांग्रेस को 3 दिनों में एक और बड़ा झटका प्राप्त हुआ है। इससे पहले पार्टी के प्रवक्ता कुणाल घोष ने 1 मार्च को पार्टी के सभी पदों से इस्तीफा दिया, जिसमें उन्होंने स्पष्ट किया कि वे प्रवक्ता और महासचिव के पदों पर नहीं रहना चाहते थे, क्योंकि उन्हें लगा कि वे सिस्टम में फिट नहीं हो रहे थे।
इसके बाद, उन्होंने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म X पर अपने बायो को बदलकर सामाजिक कार्यकर्ता और पत्रकार के रूप में परिभाषित किया, हालांकि उन्होंने यह भी स्पष्ट किया कि वे पार्टी को छोड़ रहे नहीं हैं और उन्होंने अपनी सोशल मीडिया पोस्ट में ममता बनर्जी को अपना नेता माना था।

देश पोलटिकल